लोग अक्सर सोचते हैं कि एक समय था जब लोग ईमानदार हुआ करते थे| अब तो लोगों पर कलियुग का प्रभाव है| ईमानदार लोग तो मिलते ही नहीं| परन्तु ऐसी बात नहीं, भले ही उसका percentage घटा हो, परन्तु अभी भी ईमानदारी शेष है|
इसी बात पर मुझे एक घटना याद आ रही है जो मित्र के साथ घटी थी|
उन्हें अपनी बेटी की शादी के लिए एक marriage garden पहुँचना था जिसके लिए उन्होंने 4-5 taxi car बुक कीं| मेहमान बहुत थे, सामान बहुत था| कई suit cases, कई bags थे| और तो और उनमे कई बहुमूल्य वस्तुएं भी थीं, रुपये भी थे|
सब ऐसा ही सोच रहे थे जिसके आस-पास जो सामान है उसका वे ध्यान रख लेंगे|
सभी लोग cab से उतर गए सामान भी उतार लिया गया| सारे cabs लौट भी गए| जब देखा कि वह लाल suit case कहाँ है? वह मैंने सुषमा के सुपुर्द किया था कि वह सम्हालकर रखेगी| सुषमा बोली अरे! पहले वह मेरे पास तो था पर सुमन ने मुझे बुला लिया था तो मैं उसके पास जा बैठी और उस suit case की बात तो मैं भूल ही गई| शादी की खुशियों की जगह मातम सा छा गया, क्योंकि जो बैग missing था उसमे दुल्हन के सारे गहने,रूपए सब थे|
अचानक door bell की आवाज़ हुई| सब देखने लगे कि कौन आया? देखा तो cab का driver हाथ में वही लाल suit case लिए हुए|
उसने कहा साहब यह bag छूट गया था, आप देख लें सारा सामान है या नहीं| सामान पूरा था| driver से कुछ ईनाम लेने की बात सब करने लगे| वह बोला जो मैं मांगूं वह मुझे आपको देना होगा| दूल्हा और उसके पिताजी भी वहीं बैठे थे वे सोच में पड गए कि पता नहीं क्या मांगनेवाला है|
उसने कहा कि यह बेटी मेरी भी बेटी के ही सामान है, अतः आप माता ,पिता, पुत्र, मुझे यह वचन दें आप इस बच्ची को कभी कोई कष्ट न देंगे|
उसकी ऐसी demand सुनकर सब आश्चर्य चकित रह गए| सभी ने बहुत अनुरोध किया कि आप कुछ cash लेलें| वे अपनी बात पर टिके रहे कि मेरी मांग पूरी करें बस मुझे और कुछ नहीं चाहिए और अपने घर लौट गया|
इस घटना से यह सिद्ध होता है कि ईमानदारी अब भी बाकी है|

Comments to: ईमानदारी अभी भी शेष है

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Attach images - Only PNG, JPG, JPEG and GIF are supported.