सुन्दर विचारों की उपज

मनुष्य चाहे तो इस पृथ्वी पर कुछ भी उगा सकता है,परन्तु उसे बीज की आवश्यकता होती है | ऐसे ही वह चाहे तो अच्छे विचारों को भी उपजा सकता है, जिसे कि हृदय क्षेत्र में ही उपजाया जा सकता है| इसके लिए हमें सुन्दर विचारों को लाकर हृदय में स्थापित करना होगा, जो कि किसी महात्मा, या संत से ही मिलेंगे| अब प्रश्न यह उठता है कि इससे क्या प्रयोजन? इससे हम स्वयं तो लाभ पायेंगे ही साथ ही साथ अनेक लोगों का फायदा होगा| तो किसी सत्पुरुष से सुविचार रूपी बीज लेलें, ह्रदय क्षेत्र तो हमारे पास है ही,ईश्वर उसे खाद पानी देगा|
बीजों को लाना, और उन्हें बोना दोनों काम जरूरी हैं| यदि बीज तो ले आये परन्तु उन्हें सही जगह बोया ही नहीं, तो वे बीज व्यर्थ हो जायेंगे| जैसे सुन्दर विचार सुने और एक जगह लिखकर रख दिया तो क्या लाभ? इन बीजों को हृदय क्षेत्र में बोना भी तो होगा|
इसी बात पर मुझे एक दृष्टांत याद आ रहा है — एक महापुरुष अपने तीन शिष्यों के पास क्रमश: गए, तीनों को दो-दो किलो चने दिए, और बोले बच्चों इन्हें सम्हालकर रखना मैं अब तीसरे साल ही आ पाऊंगा|
पहले ने उन्हें कपडे में लपेटकर box में रख दिया, दूसरे ने सोचा कि कहीं ये सड न जाएँ, घुन न लग जाये, इसलिए साथ में कुछ कीटनाशक दवा भी रखदी| तीसरे ने सोचा कि मैं इसे उगा लूँगा| पहले वर्ष कई गुना चने पैदा हुए, अगली बार फिर सारे बीज डाल दिए अब तो और कई गुना उपज हुई|
तीसरे वर्ष महात्माजी आये बोले लाओ वापस दो मेरे चने| पहले वाले ने जब पोटली खोली तो देखा कि सारे घुन चुके थे, दूसरे के, उतने के उतने ही थे, तीसरे के पास देखा कि चनों की कई बोरियां थीं| वे बड़े प्रसन्न हुए और बोले तुम समझदार हो, तुमने अपना मेरा और देश का भला किया|
सत्पुरुषों की संगति से अच्छे विचारों को लेना, फिर उन्हें हृदय क्षेत्र में विभूषित करना ,यह परमावश्यक है|
सुन्दर विचारों को ही सद्विचार कहते हैं, जिस युग में सद्विचार होंगे,सत्पुरुष होंगे वह सतयुग होगा| जिस घर में व हृदय में सद्विचार होंगे वह घर व हृदय स्वर्ग होगा|
एक सुन्दर वृक्ष से कई सुन्दर वृक्ष बनाए जा सकते हैं,एक प्रज्वलित दीप से कई दीप प्रज्वलित हो सकते हैं, इसी प्रकार एक अच्छा मनुष्य सैंकड़ों मनुष्यों को सुधार सकता है| बुद्धिमानी इसी में है कि एक चतुर किसान की भाँति अच्छे विचारों को पनपने दें और बुरे विचारों को खरपतवार की तरह उखाड़ फेंकें| सत का साथ करें, तो यह असंभव नहीं|

Buy JNews
ADVERTISEMENT
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn

Comments 0

  1. Maheshwar Yadav says:

    This is adorable and mind blowing that can change the way of thinking.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Welcome Back!

Login to your account below

Retrieve your password

Please enter your username or email address to reset your password.